कांग्रेस की डूबी नैया चिट्ठे

  1. kangres ka darbar . kangres ki naiya dubi chitthe
  2. pappu . kangres ki naiya dubi chitthe
  1. kangres ka darbar . kangres ki naiya dubi chitthe
  2. pappu . kangres ki naiya dubi chitthe
kangres ka darbar . kangres ki naiya dubi chitthe

kangres ka darbar . kangres ki naiya dubi chitthe
kavyapravah.com

pappu . kangres ki naiya dubi chitthe

pappu . kangres ki naiya dubi chitthe
kavyapravah.com

 

कांग्रेस की डूबी नैया चिट्ठे
खुल रहे अब सालों के
नित नए झूठ साबित होते
भ्रम फ़ैलाने वालों के
कट जाती है पतंग विरोधी
पेच लड़ाने वालों के
जब से देश आजाद हुआ
कब्जे में था दलालों के
खुले खजाने लूटे मौज थी
नित नए घोटालों के
सारे नेता अमीर हो गए
रक्षक देश के तालों के
खुलने लगे रोज स्केंडल
कमीशन और हवालों के
जनता गरीब होती गई ना
असर बंद हडतालों के
प्रापर्टी में इजाफा होता गया
नेताओं के लालों के
फिर ऐसा सैलाब उठा बदला
युग बाद कई सालों के
जनता ने राहत की सांस ली
छूटे पशीने धूर्त नेता और
दलालों के
बढ़ती लोक प्रियता मोदी की
काट हर एक चालों के
असुरक्षा की भावना मिडिया
ला रहे उबालों के
सावधान रहना जनता को
मुहं तोड़ना हर चालों के
भूखे भेड़िए हुए इकट्ठे
फेकेंगे जाल सवालों के
ना फसना ना उलझना देना
साथ देश के रखवालों के
एक बार फिर कमल खिलेगा
हिंदुस्तान के तालों में
हर हर मोदी घर घर मोदी
जुंबा पे देश के लालों के

जन कवि .गोपाल जी सोलंकी

One Comment

  1. kangres ki naiya dubi
    बढ़ती लोक प्रियता मोदी की
    काट हर एक चालों के
    असुरक्षा की भावना मिडिया
    ला रहे उबालों के
    सावधान रहना जनता को
    मुहं तोड़ना हर चालों के
    भूखे भेड़िए हुए इकट्ठे
    फेकेंगे जाल सवालों के
    ना फसना ना उलझना देना
    साथ देश के रखवालों के
    एक बार फिर कमल खिलेगा
    हिंदुस्तान के तालों में
    हर हर मोदी घर घर मोदी
    जुंबा पे देश के लालों के
    जन कवि .गोपाल जी सोलंकी
    kangres ki naiya dubi
    jan kavi gopal ji solanki

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 × three =