किससे कहूँ कैसे कहूँ

  1. karina . kisase kahun kaise kahun
  2. nakab . kisase kahun kaise kahun
  1. karina . kisase kahun kaise kahun
  2. nakab . kisase kahun kaise kahun
karina . kisase kahun kaise kahun

karina . kisase kahun kaise kahun
kavyapravah.com

nakab . kisase kahun kaise kahun

nakab . kisase kahun kaise kahun
kavyapravah.com

 

किससे कहूं ✍
किससे कहूं
किससे बांटू
अपनी परेशानी
कर रहे सब
अपनी मनमानी
दिखलाए सब
सपने झूठे
नित नए
अहसास हो रहे
पतझड़ अब मधु
मास हो रहे
सोना समझ के
पीतल पाया
उतरी कलाई
समझ मे आया
माता पिता की
बात ना मानी
प्यार मे अंधी
मैं दिवानी
धर्म बदल कर
खान हो गई
हिंदू थी मुसलमान
हो गई
जिसने कभी ना
चींटी मारी
वो मांस की बनावे
तरकारी
उल्टीयां कर
परेशान हो गई
किससे कहूं
कैसे कहूं
अपनी करनी
भुगत रही हूं
पछता रही हूं
इस अपराध
की मिली सजा
रोज मर रही
नित बिखर रही
किससे कहूं
कैसे कहूं

जन कवि .गोपाल जी सोलंकी

One Comment

  1. kisase kahun kaise kahun
    apne man ki vyatha pyar me andhi ho kar maine khaya aisa dhokha vo soumya rup kab roudra ban gya mujh sakahari ko jisne kabhi chinti na mari mans pkane kaha gya dekhte hi ultiyan suru ho gai jite ji nark bhog rahi hun
    main hindu se muslman ho gai hun
    jan kavi .gopal ji solanki