फलों का राजा आम

  1. aam .falon ka raja aam
  2. falon ka raja aam .falon ka raja aam
  1. aam .falon ka raja aam
  2. falon ka raja aam .falon ka raja aam
aam .falon ka raja aam

aam .falon ka raja aam
kavyapravah.com

falon ka raja aam .falon ka raja aam

falon ka raja aam .falon ka raja aam
kavyapravah.com

फलों का राजा आम
फलों का राजा कौन है , सभी कहेंगे आम
छा जाता बाजार में ,भर जाते ठेले तमाम
फलों का राजा
खट्टी खट्टी अमिया ,बच्चों को लुभाती है
लगी पेड़ पर छोटी छोटी , मन ललचाती है
दादी नानी अचार बनाने में , लेती है काम
फलों का राजा
पक कर जब पीला होता ,मीठा और रसीला
कई रूप और रंगो में , आता है ये सजीला
सुरु सुरु में थोड़े महंगे , रहते इसके दाम
फलों का राजा
लंगड़ा बैंगन फल्ली कलमी , हापुस दशहरी
हर घर में घुस पैठ करे ,ले जाता हर शहरी
जूस कहीं आमरस फ्रूट,सलाद में आता काम
फलों का राजा
गर्मी से देता है राहत,थाली की शोभा बढ़ाता
आम का पना थकन ,और लू से हमें बचाता
बच्चे बूढ़े युवा सभी को , भाता है ये आम
फलों का राजा
विटामिनों का खजाना , इसकी महिमा अपार
इस पर भी पड़ने लगी अब ,मंहगाई की मार
लोग खरीदते फिर भी खाते ,रसीला ये आम
फलों का राजा

जन कवि .गोपाल जी सोलंकी

One Comment

  1. फलों का राजा आम
    फलों का राजा कौन है , सभी कहेंगे आम
    छा जाता बाजार में ,भर जाते ठेले तमाम
    फलों का राजा
    खट्टी खट्टी अमिया ,बच्चों को लुभाती है
    लगी पेड़ पर छोटी छोटी , मन ललचाती है
    दादी नानी अचार बनाने में , लेती है काम
    फलों का राजा
    पक कर जब पीला होता ,मीठा और रसीला
    कई रूप और रंगो में , आता है ये सजीला
    सुरु सुरु में थोड़े महंगे , रहते इसके दाम
    जन कवि .गोपाल जी सोलंकी