मन गुरु के चरणों में.पीपा जयंती २०१८

  1. guruva pipa ji -sita ji .guvar ke chrno me .pipa jynti 2018
  2. gyan updesh . guruvar ke charnon me .pipa jaynti 2018
  1. guruva pipa ji -sita ji .guvar ke chrno me .pipa jynti 2018
  2. gyan updesh . guruvar ke charnon me .pipa jaynti 2018
guruva pipa ji -sita ji .guvar ke chrno me .pipa jynti 2018

guruvar pipa ji -sita ji .guru charnon me .pipa jaynti 2018
kavyapravah.com

gyan updesh . guruvar ke charnon me .pipa jaynti 2018

gyan updesh .guruvar ke charnon me . pipa jynti 2018
kavyapravah.com

 

मन लागा गुरु के चरणों में ,मन लागा गुरु के चरणों में
तन बंधा मोह के बन्धनों में ,मन लागा गुरु के चरणों में
मन अटका गुरु के
माता पिता भाई बहना और ,तिरिया ने मोहे बाँध रखा
काया  माया मोह मान ,सम्मान ने इतना जकड़ रखा
अब तो कृपा करके गुरुवर ,     दे दो  जगह चरणों में
मन अटका गुरु के
गुरुवर आया शरण तेरी मै, रिस्तो का सब स्वाद चखा
भटक भटक कर हार गया ,तब, गुरुवर का द्वार दिखा
अब और न भटकन हो ,गुरुवर लेलो मुझको शरणों में
मन अटका गुरु के
धन दौलत और महल अटारी ,गुरु चरणों की धूल है सारी
ठुकरा दो या अपना लो प्रभु, बैठा चरण में दास तुम्हारी
ठान के आया हूँ मै मन में ,  अब रहना है गुरु चरणों में
मन अटका गुरु के
अपना लो इस दास को भी प्रभु, भक्ति की दो राह दिखा
अपनी किरपा कर देना अगर ,मेरा कोई अपराध दिखा
काम आप का मुझ जैसे पापी के, मन से तम हरणों में
मन अटका गुरु के
कहत गोपाला गुरु रखवाला ,कर्म अकर्म का तोड़ के ताला
भक्ति की नैया गुरुवर खेवैया ,जन्म मरण से छूटेगा पाला
रहा नही अब मन में जरा भी ,भय अपने जीने मरणों में
मन अटका गुरु के
गुरु लेलो मुझको शरणों में
मन अटका

जन कवि .गोपाल जी सोलंकी 

One Comment

  1. मन अटका गुरु के
    धन दौलत और महल अटारी गुरु चरणों की धूल है सारी
    ठुकरा दो या अपना लो प्रभु बैठा चरण में दास तुम्हारी
    ठान के आया हूँ मै मन में अब रहना है गुरु चरणों में
    मन अटका गुरु के
    अपना लो इस दास को भी प्रभु भक्ति की दो राह दिखा
    अपनी किरपा कर देना अगर मेरा कोई अपराध दिखा
    काम आप का मुझ जैसे पापी के मन से तम हरणों में
    मन अटका गुरु के
    कहत गोपाला गुरु रखवाला कर्म अकर्म का तोड़ के ताला
    भक्ति की नैया गुरुवर खेवैया जन्म मरण से छूटेगा पाला
    रहा नही अब मन में जरा भी भय अपने जीने मरणों में
    मन अटका गुरु के
    गुरु लेलो मुझको शरणों में
    GURU CHARNON ME PIPA JAYNTI 2018
    JAN KAVI ,GOPAL JI SOLANKI