मेरी सूखी रोटियां

  1. be ghar anath .meri sookhi rotiya
  2. sookhi rotiya .meri sookhi rotiya
  1. be ghar anath .meri sookhi rotiya
  2. sookhi rotiya .meri sookhi rotiya
be ghar anath .meri sookhi rotiya

be ghr .anath .meri sookhi rotiya
kavyapravah.com

sookhi rotiya .meri sookhi rotiya

sookhi rotiya .meri sookhi rotiya
kavyapravah.com

 

मेरी सूखी रोटियां
गरीबी को हरा देती है ,मेरी रोटियां सूखी
बांटे लेते आपस में ,दिख जाए कोई भूखी
गरीबी को
अनाथ है घर से भागे, ठुकराए हुए जग से
रोना दुखी होना नहीं आता मुस्कुराते हंसते
अपने दम पर पलते बढ़ते हम सूरज मुखी
गरीबी को
आज में जीने वाले हम, कल जैसा भी आए
कल की चिंता आज की, खुशियाँ ना गवाएं
कोई अपना ना बेगाना ,किसके लिए हो दुखी
गरीबी को
घर नहीं परिवार नहीं , बन गए कुछ साथी
परवाह नहीं कब कोई , बिछड़ जाए साथी
कूड़ा घर होटल बाजार , यारो की टीम जुटी
गरीबी को
कहाँ जन्मे कहाँ रहे ,पले बढ़े जिए या मरे
नहीं समाज में कोई ऐसा, हमारी परवा करे
ठोकर को हम ठोकर मारे, क्यों होवे दुखी
गरीबी को

जन कवि .गोपाल जी सोलंकी

One Comment

  1. meri sookhi rotiya .garibi ko hara deti hai .kude ke dher par hotl me rehad
    me aap hmen dekh sakte hai srkar bal majduri ko apradh kahti hai par karti kuchh nahi hmara koi hit chintk nahi ham anath ghr se bhage thukrare hue bachche kise hai hamari chnta to ham bhi chnta kyo kare ham bhi thokr ko thokar marte hai or bindas jite hai
    jan kavi .gopal ji solanki