सपथ अपने वतन

  1. bridgroom .sapath apne vatan
  2. indian aarmi . sapath apne vatan
  1. bridgroom .sapath apne vatan
  2. indian aarmi . sapath apne vatan
bridgroom .sapath apne vatan

bridgroom .sapath apne vatan
kavyapravah.com

indian aarmi . sapath apne vatan

indian aarmi .sapath apne vatan
kavyapravah.com

सपथ अपने वतन
सपथ अपने वतन की , खाई थी मन में
फौज में, इसी खातिर तो , आया हूँ मैं
सपथ अपने वतन
माँ की जिद पसंद , अपनी भी मिल गई
ब्याह कर कल ही घर,उसको लाया हूँ मैं
सपथ अपने वतन
कौल शरहद की रक्षा का , भुला नहीं
अपने जज्बात काबू में , लाया हूँ मैं
सपथ अपने वतन
थम ना जाए कदम ,उसका मुख देख कर
उस नवेली से नजरें , चुराया हूँ मैं
सपथ अपने वतन
जल्द आऊंगा हम तुम , मिलेंगे सनम
नाम उसके खत छोड़ , आया हूँ मैं
सपथ अपने वतन
नजर सीमा पे है , ऊँगली ट्रिगर पे है
हल्की हरकत पे , ट्रिगर दबाया हूँ मैं
सपथ अपने वतन
शान अपने तिरंगे की , जग में बढ़े
तिलक मिटटी का सर पे , लगाया हूँ मैं
सपथ अपने वतन

जन कवि गोपाल जी सोलंकी

One Comment

  1. sapath apne vatan ki khai thi maine
    shrhad se jb bulava aaya ,ruk na jae kadm us ka mukh dekh kar ,
    islie uska ghught uthae bina chla aaya hun main
    kyoki ki main uska aansuo se bhige chehre ka dbdbai aankho ka samna nahi kar skta tha main dusam ko hlki si harkt pr nishana le kar uda skta hun
    islie uske nam ek khat chod aaya hun mai ,jld aaunga ham tum milenge sanam
    jan kavi gopal ji solanki