हमरे नेता

  1. 25-2g-sacm .hamre neta
  2. kangresi raj.hamre neta
  3. nitish kumar .hamre neta
  1. 25-2g-sacm .hamre neta
  2. kangresi raj.hamre neta
  3. nitish kumar .hamre neta
25-2g-sacm .hamre neta

25-2gsacm .hamre neta
kavyapravah.com

kangresi raj.hamre neta

kangresi raj .hamre neta
kavyapravah.com

nitish kumar .hamre neta

nitish kumar .hamre neta
kavyapravah.com

हमरे नेता नेता गिरी में , करते कितने कमाल
भोली जनता क्या समझे , इनकी सियासी चाल
हमरे नेता
देश में होते रहते साल भर , कहीं ना कहीं चुनाव
दागी भ्रष्ट चारा चोर हो , मिलता सब को भाव
नया मुखौटा लगा के आते , और ठोकते ताल
हमरे नेता
जनता के सुख दुःख से ,इनका लेना देना नहीं है
उल्टा चलते है उससे जो ,मंच से बात कही है
इनको जिताने वाला करता , पांच साल मलाल
हमरे नेता
पद पावर कुर्सी पाकर , बन जाते सब के आका
सेवक बन कर डालते ,जनता की जेब पर डाका
सोने की ईंटो पर सोते , जन को कर कंगाल
हमरे नेता
पद पगार भत्ता लेकर , संसद में करे हंगामा
भोली जनता को उलझाने ,करते सियासी ड्रामा
कुरता फाड़े कुर्सी तोड़े ये ,अध्यक्ष नोचते बाल
हमरे नेता
जन को बरगलाने चुनाव में ,चलते ऐसी चाले
गुंडे मवाली अपराधी सब ,इसी काम हित पाले
पैसा दारु जहां चले ना , वहां ये करते कमाल
हमरे नेता
जांत पांत और धर्म में बांटे ,बांटे और वर्गो में
हिन्दू मुस्लिम दलित और , अगड़े पिछडो में
आग लगे या लोग मरे , जीतना है हर हाल
हमरे नेता
चिंता नहीं किसी को देश की ,नेता हो या जनता
जन हित से जुड़ा कभी भी कुछ भी वो बक देता
अडसठ बरस की आजादी , फिर भी देश कंगाल
हमरे नेता

जन कवि .गोपाल जी सोलंकी 

One Comment

  1. हमरे नेता नेता गिरी में , करते कितने कमाल
    भोली जनता क्या समझे , इनकी सियासी चाल
    हमरे नेता
    देश में होते रहते साल भर , कहीं ना कहीं चुनाव
    दागी भ्रष्ट चारा चोर हो , मिलता सब को भाव
    नया मुखौटा लगा के आते , और ठोकते ताल
    जन कवि .गोपाल जी सोलंकी