baton se baten

  1. coleje fraind . baton se baten
  2. g.g.solanki.dost. baton se baten
  1. coleje fraind . baton se baten
  2. g.g.solanki.dost. baton se baten
coleje fraind . baton se baten

coleje-fraind .baton se baten
kavyapravah.com

g.g.solanki.dost. baton se baten

g.g.solanki .dost .baton se baten
kavyapravah.com

 

बातो से बातें
बातों से बात निकलती है
यादों की बारात निकलती है
खो जाते है बात करने वाले
खड़े रह जाते है राह में घंटो
नहीं सुविधा से बैठने की सुध
बचपन के किस्से दोस्ती खेलना
झगड़ना पढ़ना किशोरा वस्था
अपने लुक प्रति लगाव यौवन
का आगमन कालेज प्रवेश नए
दोस्त सहपाठीनो पर कमेंट्स
आपस में एक दुसरे के लिए
फब्ती कुछ बनने का जूनून
जाने कहां तक ले जाती
है बातें
बात करने वाले सीनियर
सिटीजन की केटेगरी में आ
चके हैं
बेटे गृहस्थी का मोर्चा सम्भाल
चुके है
लडकियाँ शादी हो कर विदा हो
चुकी है
दादा नाना बनने का सुख भोग
रहे है
यार से बहुत दिन बाद मुलाक़ात
हुई है
सारी कसर पूरी कर लेना चाहते है
जाने फिर कब मुलाक़ात हो या ना
हो अरे यार बातों में कितना समय
निकल गया आओ कहीं बैठ कर
चाय वाय पिते है
नही भाई अभी नही रुक सकता
फिर कभी बैठेंगे फुर्सत से
अच्छा चलता हूँ
बाय बाय
और दोनों मुस्कुराते हुए विदा हो
गए एक संतुष्टि का भाव था दोनों
के मन में

जन कवि .गोपाल जी सोलंकी

One Comment

  1. बातो से बातें
    बातों से बात निकलती है
    यादों की बारात निकलती है
    खो जाते है बात करने वाले
    खड़े रह जाते है राह में घंटो
    नहीं सुविधा से बैठने की सुध
    बचपन के किस्से दोस्ती खेलना
    झगड़ना पढ़ना किशोरा वस्था
    अपने लुक प्रति लगाव यौवन
    का आगमन कालेज प्रवेश नए
    dost
    baton se baten
    jan kavi gopal ji solanki