kaise roku ye aansu

  1. archana . kaise rokun ye aansu
  2. preyasi .kaise rokun ye aansu
  1. archana . kaise rokun ye aansu
  2. preyasi .kaise rokun ye aansu
archana . kaise rokun ye aansu

archana . kaise rokun ye aansu
kavyapravah.com

preyasi .kaise rokun ye aansu

preyasi . kaise rokun ye aansu
kavyapravah.com

 

कैसे रोकूं ये आंसू
भरे हैं नयन में डबा डब ये आंसू
पलकों पर आकर ठहरे हैं ये आंसू
दांतों से लब को दबा रोके आंसू
रोके से रुकते कहां है ये आंसू
कैसे रोकूं ये आंसू
जख्म दिल का रिशे आते आंसू
लगे घाव पर चोट तो आते आंसू
दांतों से लब को दबा रोके आंसू
रोके से रुकते कहां है ये आंसू
कैसे रोकूं ये आंसू
करे दुःख हल्का दवा है ये आंसू
बिरही मन की सदा है ये आंसू
दांतों से लब को दबा रोके आंसू
रोके से रुकते कहां है ये आंसू
कैसे रोकूं ये आंसू
मन में हो ग्लानी तो आते आंसू
झूठ मनवाना हो तो आते आंसू
दांतों से लब को दबा रोके आंसू
रोके से रुकते कहां है ये आंसू
कैसे रोकूं ये आंसू
भरे मन की भाषा ये खारे आंसू
ख़ुशी में गम में भी छलके ये आंसू
दांतों से लब को दबा रोके आंसू
रोके से रुकते कहां है ये आंसू
कैसे रोकूं ये आंसू

जन कवि .गोपाल जी सोलंकी

Comments

comments

One Comment

  1. कैसे रोकूं ये आंसू
    भरे हैं नयन में डबा डब ये आंसू
    पलकों पर आकर ठहरे हैं ये आंसू
    दांतों से लब को दबा रोके आंसू
    रोके से रुकते कहां है ये आंसू
    कैसे रोकूं ये आंसू
    जख्म दिल का रिशे आते आंसू
    लगे घाव पर चोट तो आते आंसू
    दांतों से लब को दबा रोके आंसू
    रोके से रुकते कहां है ये आंसू
    कैसे रोकूं ये आंसू
    kaise rokun ye aansu
    jan kavi gopal ji solanki