Tag Archives: bhrshtachar

  • gopal ji solnki

    अपने मन की अभिव्यक्ति [kvi]

    अपने मन की अभिव्यक्ति को मैं शब्दों से सजाकर कहता हूँ वाणी में मिठास भर कर के कविता में व्यक्त कर देता हूँ अपने मन की पल पल घटती वो घटनाएं विक्षोभ से मन भर देती है जाग उठता तभी कवि मन सब कविता में भर देता हूँ अपने मन की भटक रहा सड़को पर […]